Kahani Dashrath manjhi (mountain man) ki

dashrath manji ne WO kam kiya hai

jiski kahani ek ma apne bacho ko apne PARISHRAM ki shiksha dene ke liye sunati hai

dashrath manjhi ka parichay  Hindi me

जन्म.                    1934
                      गहलौर, बिहार, भारत

मृत्यु.                 17 अगस्त 2007
                          नयी दिल्ली, भारत

मृत्यु का कारण.      पित्ताशय कैंसर

राष्ट्रीयता.                     भारतीय indian

अन्य नाम.                  माउंटेन मैन

प्रसिद्धि कारण.(famous for).        अकेले ही पहाड़                                                                    को काटकर सड़क का निर्माण किया।

जीवनसाथी(wife).  फाल्गुनी देवी

dashrath manjhi ne akele hi pahadi katkar WO rasta banaya
ki

Jo pahle 80 kilometer ka thaa WO ab sirf 13 kilometer ka rah gaya hai

jab unki patni pahadi se giri to  WO unhe bacha nahi sake

kyuki aspatal waha se 80 kilometre dur thaa aur na hi koi
asa sadhan thaa jisse WO wah jaldi pahuch sake

apni patni ko khokar unhone apni jindagi ka Sara samay Sirf pahadi par rasta banane ko diya

unhone apni bakriyo ko bech   kar
mile paiso se chaini aur hathora jaise auojaar kharide
aur apne kaam me lag gaye

gau walo ne unko

dukh se bhara ek pagal insan
samajha.
Jo apna mansik santulan kho chuka hai

par manjhi ne bhi अकेले ही 360 फुट लंबी 30 फुट चौड़ी और 25 फुट ऊँचे पहाड़ को काट के एक सड़क bana डाली।

lagbhag 22 वर्षों परिश्रम के बाद hi unka ye kaam safal hua

दशरथ मांझी का देहांत 18 अगस्त 2007 को कैंसर की बीमारी से लड़ते हुए दिल्ली के AIIMS अस्पताल में हुआ.इनका अंतिम संस्कार बिहार सरकार द्वारा राजकीय सम्मानके साथ किया गया.

unki kahani hume prerana deti hai ki
rasta jahe jaisa bhi ho jitne bhi mushkil kyu na ho par agar humari koshish sache dil se ki gayi ho hume hamari
manjil milegi
jarur milegi

“”दशरथ मांझी का वक्तव्यफिल्म: 'मांझी: द माउंटेन मैन में'

...अपने बुलंद हौसलों और खुद को जो कुछ आता था, उसी के दम पर मैं मेहनत करता रहा. संघर्ष के दिनों में मेरी मां कहा करती थीं कि 12 साल में तो घूरे के भी दिन फिर जाते हैं. उनका यही मंत्र था कि अपनी धुन में लगे रहो. बस, मैंने भी यही मंत्र जीवन में बांध रखा था कि अपना काम करते रहो, चीजें मिलें, न मिलें इसकी परवाह मत करो. हर रात के बाद दिन तो आता ही है.

un manjhi ko mera shat shat naman

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »

Popular Posts